सौभाग्य योजना लाइनमैन और हेल्परों की भर्ती

सौभाग्य योजना 55,500 लाइनमैन और हेल्परों की भर्ती – उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, ओडिशा और असम

सौभाग्य योजना 55,500 लाइनमैन और हेल्परों की भर्ती। उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, ओडिशा और असम के युवाओ के लिए खुसखबरी सरकार द्वारा चलायी गई सौभाग्य योजना के अंतर्गत अब ग्रामीण युवाओं के लिए रोजगार अवसर। 55,500 लाइनमैन और हेल्परों की भर्ती होगी। जानकारी के अनुसार 47 हजार लाइनमैन और 8500 तकनीकी हेल्परों की आवश्यकता पड़ेगी। इनमें से 47 हजार की जरूरत तो सिर्फ छह राज्यों उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, ओडिशा और असम में होगी।

सौभाग्य योजना के तहत 2019 तक देश के हर घर तक बिजली पहुंचाने के लिए लाइनमैन और हेल्परों की आवश्यकता होगी जिसके लिए कौशल विकास मंत्रलय ने ग्रामीण युवाओं को प्रशिक्षित करने की जिम्मेदारी ली है। इसके लिए ऊर्जा मंत्रलय और कौशल विकास मंत्रलय के बीच करार हो गया है।

योजना अनुसार लाइनमैन और हेल्परों की कमी को पूरा करने के लिए स्थानीय स्तर पर युवाओं को प्रशिक्षण दिया जायेगा। इसके लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था भी जिलास्तर पर मौजूद आइटीआइ में होगी। सबसे अच्छी बात यह है की सबसे पहले ठेकेदारों के तहत काम कर रहे युवाओं को प्रशिक्षित कर बिजली वितरण कंपनियों में रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। यदि लाइनमैन और हेल्परों की संख्या पूरी नहीं होती है तो आइटीआइ में इलेक्ट्रीशियन की ट्रेनिंग ले रहे युवाओं को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा और इस कमी को पूरा किया जायेगा।

RPSC हेडमास्टर भर्ती 2018

सरकार का यह मानना हे की इस योजना के तहत 55,500 युवाओ को रोजगार मिलेगा जिससे उनकी आर्थिक स्तिथि में सुधार होगा। इस सभी युवाओ को कौशल विकाश योजना के तहत प्रशिक्षण दिया जायेगा। इस योजना से हर घर तक बिजली पहुचेगी और बेरोजगार युवाओ को रोजगार भी मिलेगा। इन लाइनमैन और हेल्परों की भर्ती सीधे तोर पर की जाएगी मतलब जिन युवाओ को कौशल विकाश योजना के तहत प्रशिक्षण दिया जायेगा। उन्हें पहले प्राथमिकता दी जाएगी।

Saubhagya Yojana Lineman and Recruitment Advertisement

ऊपर दी गई जानकारी से सम्बंधित किसी प्रकार जानकारी के लिए निचे दिए गयी कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते है।

One thought on “सौभाग्य योजना 55,500 लाइनमैन और हेल्परों की भर्ती – उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, ओडिशा और असम”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>